92 / 100

 

menka apsara  sadhna 

रहस्यमय      मेनका  अप्सरा   साधना

– विधि  विधान सहित   PH.85280

57364

 

आज बात करेंगे  menka apsara मेनका अप्सरा अप्सरा साधना के बारे में मुझसे बहुत सारे लोगों ने सवाल पूछा है, कि क्या     menka apsara मेनका अप्सरा अप्सरा साधना क्या कलयुग में       menka apsara मेनका अप्सरा अप्सरा सिद्ध नहीं होती तो । आज इस विषय पर बात करेंगे जैसे अन्य अप्सरा साधना सिद्ध होती है ।  वैसे ही कलयुग में मेनका अप्सरा  menka apsara अप्सरा भी सिद्ध होती है । ऐसा कुछ नहीं है कि यह साधना की रीत है या श्रापित है यह सब बेकार की बातें हैं जिनको इस प्रकार के साधना में कोई अनुभव नहीं हुए ।  menka apsara मेनका अप्सरा अप्सरा साधना से कोई लाभ नहीं हुआ वही इस प्रकार का भ्रम फैला rhe जैसे  साधना में मेहनत करते हैं । प्रयास करते हैं वैसे ही प्रयास अगर हम  menka apsara मेनका अप्सरा अप्सरा साधना में करेंगे तो इसमें भी अनुभव हो सकते हैं । मैंने खुद कई साधकों को  menka apsara मेनका अप्सरा अप्सरा साधना करते हुए दिखाएं साधक है ।

इन विषय पर चर्चा करेंगे 

  • मेनका अप्सरा किसकी पुत्री थी
  • मेनका अप्सरा कौन थी
  • मेनका अप्सरा साधना मंत्र

मेनका अप्सरा का जन्म

मेनका अप्सरा का जनम नहीं हुआ यह समुंदर  मंथन से उत्पन्न हुई ! यह १४ रत्नो में से एक रतन था जिस को इंदर  ने मांग लिया था स्वर्ग के लिए  !यह स्वर्ग में देवताओ का मनोरंजन करती है ! इस का इस्तमाल देवता ऋषि मुनिओ की तपस्या भंग  करने के लिए  होता था  समुंदर  से निकलने ने के कारन यह माँ लक्ष्मी की बहन  है !

 

मेनका अप्सरा किसकी पुत्री थी

मेनका वृषणश्र (ऋग्वेद १-५१-१३) अथवा कश्यप और प्राधा (महाभारत आदिपर्व, ६८-६७) की पुत्री तथा ऊर्णयु नामक गंधर्व की पत्नी थी

मेनका अप्सरा कौन थी

मेनका एक अप्सरा थी जो इंद्रा की सुन्दर अप्सरो में से एक थी मेनका अप्सरा का जनम नहीं हुआ यह समुंदर  मंथन से उत्पन्न हुई ! यह १४ रत्नो में से एक रतन थी  मेनका वृषणश्र (ऋग्वेद १-५१-१३) अथवा कश्यप और प्राधा (महाभारत आदिपर्व, ६८-६७) की पुत्री तथा ऊर्णयु नामक गंधर्व की पत्नी थी। अर्जुन के जन्म समारोह तथा स्वागत में इसने नृत्य किया था।

मेनका अप्सरा साधना मंत्र यंत्र 

मेनका अप्सरा साधना  मंत्र गुपत रखा गया है आप को साधना दीक्षा के बाद उपलब्द  करवाया जाएगा दीक्षा के लिए  आप फ़ोन कर सकते है  गुरु जी फ़ोन नंबर ph .8528057364

menka apsara मेनका अप्सरा  साधना अनुभव 

 

 

 

menka apsara रहस्यमय मेनका अप्सरा  साधना - विधि विधान सहित

जिन्होंने साधना को करा है और उसमें अनुभव हुए हैं सफल हुए हैं । नाम तो मैं पब्लिक में नहीं बता सकता नाम बताने से वह शक्तियां नाराज हो जाती हैं । साधना खराब हो जाती है रखा जाता है मैंने menka apsara मेनका अप्सरा अप्सरा की साधना एक साधक को दी थी नही । जब वह साधना के बाद जब सो रहे थे सपने में एक सुंदर सी देवी आई और उस साधक को अपने गले लगा लिया साधक ने फिर मुझसे अपना अनुभव शेयर किया । और मुझसे यह जानना चाहा कि वह जो देवी सपने में आई थी वह कौन थी । मैंने उनसे कहा कि वह   menka apsara मेनका अप्सरा ही हो सकती है । आप अपनी साधना को जारी रखी है आपको थोड़े समय में बिल्कुल स्पष्ट हो जाएगा समय जब वह अपनी साधना को कुछ दिन तक और करें तो वह  menka apsara मेनका अप्सरा उनके सपने में आई मैंने सपने में स्पष्ट रूप से कहा कि मैं   menka apsara मेनका अप्सरा हूं ।वैसे उसको भी यकीन हो गया कि यहां आज भी कलयुग में      menka apsara मेनका अप्सरा को बुलाया जा सकता है ।

 

menka apsara मेनका अप्सरा साधना और जन्म कुंडली ग्रह स्थिती

menka apsara रहस्यमय मेनका अप्सरा  साधना - विधि विधान सहित

 इस के बाद उन्हने इस साधना को आगे भी करा और उनको और अच्छे अनुभव होते रहे तू ऐसा होता है । किसी किसी को बहुत जल्दी अनुभव हो जाते हैं । किसी किसी को एक महीना लग जाता है । अनुभव होने में किसी को 2 महीने भी लग जाते हैं । यह सब इस बात पर निर्भर करता है । कि आपकी जन्मकुंडली में आप की ग्रह स्थिति कैसी है । अपने पहले कौन कौन सी साधना या अनुष्ठान कर रखा है । की जन्म कुंडली में चंद्रमा की स्थिति कैसी है । बृहस्पति कैसे हैं, शुभ होगा तो मन उत्साहित रहेगा एकाग्र रहेगा ,बृहस्पति शुभ होंगे बलवान होंगे, तो देवकृपा शीघ्र होती है । अन्य ग्रहों का भी अपना अपना असर साधक की साधना पर होता है । राहु और केतु अदृश्य ग्रह हैं शुभ हो जाए । तो सब छुपी हुई चीजों को प्रकट कर देते हैं और अगर अशुभ हो तो सारी जिंदगी ढूंढते रहे पास में पड़ी हुई चीज भी दिखाई नहीं देती । ग्रह खराब हो तो सिद्धि भी आसानी से नजर नहीं आती अनुभव नहीं हो पाते ज्यादा खराब हो तो व्यक्ति को नास्तिक बना देते हैं । व्यक्ति को सब कुछ मिलने लगता है फिर चाहे साधना हो सिद्धि हो ज्ञान हो अनुभव हो सब कुछ शीघ्र मिले लगता है ।

 

menka apsara मेनका अप्सरा अप्सरा की साधना कैसे करनी है

menka apsara रहस्यमय मेनका अप्सरा  साधना - विधि विधान सहित

 उसके बारे में मैं बता देता हूं इस आदमी को किसी भी शुक्रवार से प्रारंभ किया जाता है और यह 8 दिन की साधना है किसी  शुक्रवार से प्रारंभ करके अगले शुक्रवार को साधना समाप्त कर दी जाती है । रात को 9:30 बजे के बाद आप कभी भी प्रारंभ कर सकते हैं । रात को 10:00 बजे एक 11:00 या 12:00 बजे कभी भी आप रात को इस साधना को प्रारंभ कर सकते हैं । शादी का जो भी साधना हो कर रहे हैं । वह पीले रंग के वस्त्र पहने बैठने का आसन हो वह भी पीले रंग का होना चाहिए सामने चौकी पर पीले रंग का वस्त्र बिछाकर उस पर की प्लेट या चांदी की प्लेट में अप्सरा यंत्र रखेंगे । प्राण प्रतिष्ठित और मंत्र से धोना चाहिए को शीघ्र लाभ मिल पाता है ।

तांबे का रहेगा तो ज्यादा अच्छा रहेगा थोड़ा सा केसर लेंगे और को पानी में घोलकर के उसके सर से प्लेटके बीच में श्री लिखना है जो प्लेट उस प्लेट के बिल्कुल बीचो-बीच श्री अक्षर लिखेंगे । अप्सरा यंत्र स्थापित करेंगे श्री यंत्र का सामान्य पूजन करें उस पर केसर की बिंदी लगाएं दिए जलाने आपके पास गुलाब के पुष्प हो तो गुलाब के पुष्प उस यंत्र पर रखे और अगर गुलाब के कुछ भी नहीं है तो । आप कोई भी कोई भी कुछ प्ले करते हो उस यंत्र पर चढ़ाएं थोड़ा सा गूगल चलाएं खाना है । गूगल कैसे जलाते हैं उस पर वीडियो मैंने पहले से बना दिया है । गूगल का दुआ दिखाने के बाद फिर आप दाहिने हाथ में जल लेंगे संकल्प करेंगे और संकल्प में अपना नाम अपना गोत्र बोलेंगे और कहेंगे कि मैं  menka apsara मेनका अप्सरा साधना सिद्ध करना चाहता हूं । जिससे कि वह प्रेमिका रूप में जीवन भर मेरे पास रहे और जो भी आज्ञा दूं उसे पूरा करें के बाद सामने दूध से बनी हुई मिठाई का भोग लगाएंगे । एक इलायची रखेंगे और उसके बाद हकीक की माला से उत्तरा के मंत्र का 11 माला जाप करेंगे एक माला संस्कारित होनी चाहिए अभियंत्रण माला कहीं से भी ले सकते हैं प्राण प्रतिष्ठा करवाने के बाद ही उसको अपनी साधना में इस्तेमाल करें ।

अगर आपको ऐसे यंत्र माला मिलने में परेशानी हो तो और फ़ोन कर सकते है ८५२८०५७३६४ है आप यंत्र माला मंगवा सकते हैं अगर इस बीच में कुछ अनुभव होते हैं तो उन अनुभव को किसी को बताना नहीं है । कुछ दृश्य दिखाई देते हैं या कुछ घुंघरू की आवाज सुनाई देती है । या खुशबू आती है कपड़ा के सपने में दर्शन होते हैं । तो भी इस विषय में किसी से भी जिक्र नहीं करना है । 8 दिन तक लगातार यह साधना होती है अभी रात्रि को साधना करने से पहले एक गुलाब के पुष्पों का हार रखा जाता है अपने साधना स्थल पर और जब साधना पूर्ण होने पर  menka apsara मेनका अप्सरा अगर प्रत्यक्ष होती है तो वह माला उसे पहना दिया जाता है सिद्धि तभी मानी जाती है ।

जब  menka apsara मेनका अप्सरा आपके हाथ में अपना हाथ रख कर के वचन दे कि वह जीवन भर आपके साथ रहेगी और आपकी जो भी मनोकामना है उसको पूरा करें । आपके हर आज्ञा का पालन करेगी उनको 8 दिन में सफलता नहीं मिलेगी बालक है वह 8 दिन बाद भी साधना को नित्य करते रहे कम 11 माला नित्य संपन्न करें नित्य 11 माला संबंध करेंगे तो थोड़े समय बाद ही  menka apsara मेनका अप्सरा अप्सरा की उपस्थिति का आभास होने लगेगा कुछ विशेष अनुभव हो सकते हैं में दर्शन हो सकते हैं  जाप करने से धीरे धीरे आपका तपोबल बढ़ने लगेगा तो कुछ समय के बाद फिर प्रत्यक्ष अनुभव भी हो सकते हैं । और प्रत्यक्ष दर्शन भी हो सकते हैं ।

साधना में सफलता के लिए किस मंत्र का अनुष्ठान करने का प्रयास करें  मेनका अप्सरा  menka apsara अप्सरा के मंत्र का जाप करते रहे तो इससे भी धीरे-धीरे मंत्र जागृत होने लगेगा और अप्सरा के अनुभव प्रारंभ हो जाएंगे menka apsara मेनका अप्सरा अप्सरा की पूर्ण कृपा होने लगती है । तो सादा को धन ऐश्वर्या मान सम्मान सब कुछ प्राप्त होने लगता है राधा की सभी इच्छाओं को पूरा करती है । एक प्रेमिका या मित्र की तरह साथ रहती है । और साधक उससे जो भी चाहता है

आज बात करेंगे      menka apsara मेनका अप्सरा अप्सरा साधना के बारे में मुझसे बहुत सारे लोगों ने सवाल पूछा है, कि क्या       menka apsara मेनका अप्सरा अप्सरा साधना क्या कलयुग में       menka apsara मेनका अप्सरा अप्सरा सिद्ध नहीं होती तो । आज इस विषय पर बात करेंगे जैसे अन्य अप्सरा साधना सिद्ध होती है ।  वैसे ही कलयुग में मेनका अप्सरा  menka apsara अप्सरा भी सिद्ध होती है । ऐसा कुछ नहीं है कि यह साधना की रीत है या श्रापित है यह सब बेकार की बातें हैं जिनको इस प्रकार के साधना में कोई अनुभव नहीं हुए ।  menka apsara मेनका अप्सरा अप्सरा साधना से कोई लाभ नहीं हुआ वही इस प्रकार का भ्रम फैला rhe जैसे  साधना में मेहनत करते हैं । 

प्रयास करते हैं वैसे ही प्रयास अगर हम   मेनका अप्सरा  menka apsara अप्सरा साधना में करेंगे तो इसमें भी अनुभव हो सकते हैं । मैंने खुद कई साधकों को  menka apsara मेनका अप्सरा अप्सरा साधना करते हुए दिखाएं साधक है ।

जिन्होंने साधना को करा है और उसमें अनुभव हुए हैं सफल हुए हैं । नाम तो मैं पब्लिक में नहीं बता सकता नाम बताने से वह शक्तियां नाराज हो जाती हैं । साधना खराब हो जाती है रखा जाता है मैंने menka apsara मेनका अप्सरा अप्सरा की साधना एक साधक को दी थी नही । जब वह साधना के बाद जब सो रहे थे सपने में एक सुंदर सी देवी आई और उस साधक को अपने गले लगा लिया साधक ने फिर मुझसे अपना अनुभव शेयर किया । और मुझसे यह जानना चाहा कि वह जो देवी सपने में आई थी वह कौन थी । मैंने उनसे कहा कि वह मेनका अप्सरा  menka apsara ही हो सकती है । आप अपनी साधना को जारी रखी है आपको थोड़े समय में बिल्कुल स्पष्ट हो जाएगा समय जब वह अपनी साधना को कुछ दिन तक और करें तो वह   menka apsara मेनका अप्सरा उनके सपने में आई मैंने सपने में स्पष्ट रूप से कहा कि मैं   menka apsara मेनका अप्सरा हूं ।वैसे उसको भी यकीन हो गया कि यहां आज भी कलयुग में  menka apsara मेनका अप्सरा को बुलाया जा सकता है ।

 इस के बाद उन्हने इस साधना को आगे भी करा और

उनको और अच्छे अनुभव होते रहे तू ऐसा होता है । किसी किसी को बहुत जल्दी अनुभव हो जाते हैं । किसी किसी को एक महीना लग जाता है । अनुभव होने में किसी को 2 महीने भी लग जाते हैं । यह सब इस बात पर निर्भर करता है । कि आपकी जन्मकुंडली में आप की ग्रह स्थिति कैसी है । अपने पहले कौन कौन सी साधना या अनुष्ठान कर रखा है । की जन्म कुंडली में चंद्रमा की स्थिति कैसी है । बृहस्पति कैसे हैं, शुभ होगा तो मन उत्साहित रहेगा एकाग्र रहेगा ,बृहस्पति शुभ होंगे बलवान होंगे, तो देवकृपा शीघ्र होती है । अन्य ग्रहों का भी अपना अपना असर साधक की साधना पर होता है । राहु और केतु अदृश्य ग्रह हैं शुभ हो जाए । तो सब छुपी हुई चीजों को प्रकट कर देते हैं और अगर अशुभ हो तो सारी जिंदगी ढूंढते रहे पास में पड़ी हुई चीज भी दिखाई नहीं देती । ग्रह खराब हो तो सिद्धि भी आसानी से नजर नहीं आती अनुभव नहीं हो पाते ज्यादा खराब हो तो व्यक्ति को नास्तिक बना देते हैं । व्यक्ति को सब कुछ मिलने लगता है फिर चाहे साधना हो सिद्धि हो ज्ञान हो अनुभव हो सब कुछ शीघ्र मिले लगता है ।

 

 

menka apsara मेनका अप्सरा अप्सरा की साधना कैसे करनी है

menka apsara रहस्यमय मेनका अप्सरा  साधना - विधि विधान सहित

 

उसके बारे में मैं बता देता हूं इस आदमी को किसी भी शुक्रवार से प्रारंभ किया जाता है और यह 8 दिन की साधना है किसी  शुक्रवार से प्रारंभ करके अगले शुक्रवार को साधना समाप्त कर दी जाती है । रात को 9:30 बजे के बाद आप कभी भी प्रारंभ कर सकते हैं । रात को 10:00 बजे एक 11:00 या 12:00 बजे कभी भी आप रात को इस साधना को प्रारंभ कर सकते हैं । शादी का जो भी साधना हो कर रहे हैं । वह पीले रंग के वस्त्र पहने बैठने का आसन हो वह भी पीले रंग का होना चाहिए सामने चौकी पर पीले रंग का वस्त्र बिछाकर उस पर की प्लेट या चांदी की प्लेट में अप्सरा यंत्र रखेंगे । प्राण प्रतिष्ठित और मंत्र से धोना चाहिए को शीघ्र लाभ मिल पाता है । तांबे का रहेगा तो ज्यादा अच्छा रहेगा थोड़ा सा केसर लेंगे और को पानी में घोलकर के उसके सर से प्लेटके बीच में श्री लिखना है जो प्लेट उस प्लेट के बिल्कुल बीचो-बीच श्री अक्षर लिखेंगे । अप्सरा यंत्र स्थापित करेंगे श्री यंत्र का सामान्य पूजन करें उस पर केसर की बिंदी लगाएं दिए जलाने आपके पास गुलाब के पुष्प हो तो गुलाब के पुष्प उस यंत्र पर रखे और अगर गुलाब के कुछ भी नहीं है तो ।

आप कोई भी कोई भी कुछ प्ले करते हो उस यंत्र पर चढ़ाएं थोड़ा सा गूगल चलाएं खाना है । गूगल कैसे जलाते हैं उस पर वीडियो मैंने पहले से बना दिया है । गूगल का दुआ दिखाने के बाद फिर आप दाहिने हाथ में जल लेंगे संकल्प करेंगे और संकल्प में अपना नाम अपना गोत्र बोलेंगे और कहेंगे कि मैं  menka apsara मेनका अप्सरा साधना सिद्ध करना चाहता हूं । जिससे कि वह प्रेमिका रूप में जीवन भर मेरे पास रहे और जो भी आज्ञा दूं उसे पूरा करें के बाद सामने दूध से बनी हुई मिठाई का भोग लगाएंगे । एक इलायची रखेंगे और उसके बाद हकीक की माला से उत्तरा के मंत्र का 11 माला जाप करेंगे एक माला संस्कारित होनी चाहिए अभियंत्रण माला कहीं से भी ले सकते हैं प्राण प्रतिष्ठा करवाने के बाद ही उसको अपनी साधना में इस्तेमाल करें ।अगर आपको ऐसे यंत्र माला मिलने में परेशानी हो तो और फ़ोन कर सकते है ८५२८०५७३६४ है आप यंत्र माला मंगवा सकते हैं

 

menka apsara मेनका अप्सरा साधना में ऐसे अनुभव हो सकते है 

menka apsara रहस्यमय मेनका अप्सरा  साधना - विधि विधान सहित

अगर इस बीच में कुछ अनुभव होते हैं तो उन अनुभव को किसी को बताना नहीं है । कुछ दृश्य दिखाई देते हैं या कुछ घुंघरू की आवाज सुनाई देती है । या खुशबू आती है कपड़ा के सपने में दर्शन होते हैं । तो भी इस विषय में किसी से भी जिक्र नहीं करना है । 8 दिन तक लगातार यह साधना होती है अभी रात्रि को साधना करने से पहले एक गुलाब के पुष्पों का हार रखा जाता है अपने साधना स्थल पर और जब साधना पूर्ण होने पर  menka apsara मेनका अप्सरा अगर प्रत्यक्ष होती है तो वह माला उसे पहना दिया जाता है सिद्धि तभी मानी जाती है ।

जब  menka apsara मेनका अप्सरा आपके हाथ में अपना हाथ रख कर के वचन दे कि वह जीवन भर आपके साथ रहेगी और आपकी जो भी मनोकामना है उसको पूरा करें । आपके हर आज्ञा का पालन करेगी

उनको 8 दिन में सफलता नहीं मिलेगी बालक है वह 8 दिन बाद भी साधना को नित्य करते रहे कम 11 माला नित्य संपन्न करें नित्य 11 माला संबंध करेंगे तो थोड़े समय बाद ही  menka apsara मेनका अप्सरा अप्सरा की उपस्थिति का आभास होने लगेगा कुछ विशेष अनुभव हो सकते हैं में दर्शन हो सकते हैं  जाप करने से धीरे धीरे आपका तपोबल बढ़ने लगेगा तो कुछ समय के बाद फिर प्रत्यक्ष अनुभव भी हो सकते हैं । और प्रत्यक्ष दर्शन भी हो सकते हैं

साधना में सफलता के लिए किस मंत्र का अनुष्ठान करने का प्रयास करें    menka apsara मेनका अप्सरा अप्सरा के मंत्र का जाप करते रहे तो इससे भी धीरे-धीरे मंदिर जागृत होने लगेगा और अप्सरा के अनुभव प्रारंभ हो जाएंगे      menka apsara मेनका अप्सरा अप्सरा की पूर्ण कृपा होने लगती है । तो सादा को धन ऐश्वर्या मान सम्मान सब कुछ प्राप्त होने लगता है राधा की सभी इच्छाओं को पूरा करती है । एक प्रेमिका या मित्र की तरह साथ रहती है । और साधक उससे जो भी चाहता है      menka apsara मेनका अप्सरा उसे प्रदान करती है तुझे आज का साधना से जुड़ा कोई सवाल हो तो आप कमेंट करके पूछ सकते हैं वैसे अप्सरा साधना से संबंधित बहुत सारे प्रश्नों के उत्तर डिटेल में मैंने वीडियो में बना रखे हैं जिन्होंने उन वीडियोस को नहीं देखा है और जिनके मन में अप्सरा साधना से संबंधित बहुत सारे प्रश्न है तो इस website gurumantrasadhna.com के प्लेलिस्ट में जाइए वहां आपको अप्सरा साधना प्रश्नोत्तरी अप्सरा क्वेश्चन आंसर के नाम से फोल्डर मिलेगा वीडियो है । 

 जिसमें अप्सरा साधना से संबंधित सभी प्रश्नों के उत्तर मैंने दे रखे हैं आप उन वीडियोस को देखिए और आपके उसमें सभी प्रश्नों के उत्तर मिल जाएंगे प्रश्न है तो आप कमेंट कर सकते हैं । मैं एक और वीडियो बना दूंगा अप्सरा साधना की हकीकत का एक और पाठ बनाकर उसमें सभी प्रश्नों को का वीडियो अगर  अच्छा लगे तो लाइक कीजिए और अपने सभी दोस्तों के साथ शेयर कीजिए नहीं किया तो सब्सक्राइब कर सकते हैं

जय महाकाल

real life experience of apsara sadhana
 
apsara sadhana pdf
 
apsara sadhana prophet666
 
apsara sadhana book
 
apsara sadhana mantra
 
apsara sadhana quora
 
urvashi apsara sadhana benefits?
 
urvashi apsara sadhana

अप्सरा साधना और तंत्र apsara sadhna aur tantra

रंभा अप्सरा साधना और अनुभव rambha apsara sadhna ph.8528057364

रत्नमाला अप्सरा साधना – एक दिवसीय अप्सरा साधना ek divaseey apsara saadhana ph.85280 57364

(अप्सरा साधना के लाभ ) अप्सरा साधना का हमारे जीवन मे महत्व (Benefits of Apsara ) Our life of Apsara is important

अप्सरा साधना में आहार कैसा होना चाहिए   apsara mantra sadhna

नाथ पंथ की महागणपति प्रत्यक्षीकरण साधना भगवान गणेश के दर्शन के लिए ph.85280 57364

(अप्सरा साधना के लाभ ) अप्सरा साधना का हमारे जीवन मे महत्व (Benefits of Apsara ) Our life of Apsara is important

यह तंत्र साधना कभी न करे एक शादीशुदा साधक tantra sadhana

मायावी विद्या और कृष्ण के पौत्र के माया से अपहरण mayavi vidya ph.85280


facebook

twitter

.linkedin

मेनका और विश्वामित्र की कहानी video

मेनका अप्सरा का जन्म

मेनका अप्सरा का जनम नहीं हुआ यह समुंदर  मंथन से उत्पन्न हुई ! यह १४ रत्नो में से एक रतन था जिस को इंदर  ने मांग लिया था स्वर्ग के लिए  !यह स्वर्ग में देवताओ का मनोरंजन करती है ! इस का इस्तमाल देवता ऋषि मुनिओ की तपस्या भंग  करने के लिए  होता था  समुंदर  से निकलने ने के कारन यह माँ लक्ष्मी की बहन  है !

 

मेनका अप्सरा किसकी पुत्री थी

मेनका वृषणश्र (ऋग्वेद १-५१-१३) अथवा कश्यप और प्राधा (महाभारत आदिपर्व, ६८-६७) की पुत्री तथा ऊर्णयु नामक गंधर्व की पत्नी थी

मेनका अप्सरा कौन थी

मेनका एक अप्सरा थी जो इंद्रा की सुन्दर अप्सरो में से एक थी मेनका अप्सरा का जनम नहीं हुआ यह समुंदर  मंथन से उत्पन्न हुई ! यह १४ रत्नो में से एक रतन थी  मेनका वृषणश्र (ऋग्वेद १-५१-१३) अथवा कश्यप और प्राधा (महाभारत आदिपर्व, ६८-६७) की पुत्री तथा ऊर्णयु नामक गंधर्व की पत्नी थी। अर्जुन के जन्म समारोह तथा स्वागत में इसने नृत्य किया था।

मेनका अप्सरा साधना मंत्र यंत्र 

मेनका अप्सरा साधना  मंत्र गुपत रखा गया है आप को साधना दीक्षा के बाद उपलब्द  करवाया जाएगा दीक्षा के लिए  आप फ़ोन कर सकते है  गुरु जी फ़ोन नंबर ph .8528057364

मेनका अप्सरा साधना मंत्र यंत्र 

मेनका अप्सरा साधना  मंत्र गुपत रखा गया है आप को साधना दीक्षा के बाद उपलब्द  करवाया जाएगा दीक्षा के लिए  आप फ़ोन कर सकते है  गुरु जी फ़ोन नंबर ph .8528057364

मेनका अप्सरा कौन थी

मेनका एक अप्सरा थी जो इंद्रा की सुन्दर अप्सरो में से एक थी मेनका अप्सरा का जनम नहीं हुआ यह समुंदर  मंथन से उत्पन्न हुई ! यह १४ रत्नो में से एक रतन थी  मेनका वृषणश्र (ऋग्वेद १-५१-१३) अथवा कश्यप और प्राधा (महाभारत आदिपर्व, ६८-६७) की पुत्री तथा ऊर्णयु नामक गंधर्व की पत्नी थी। अर्जुन के जन्म समारोह तथा स्वागत में इसने नृत्य किया था।

मेनका अप्सरा का जन्म

मेनका अप्सरा का जनम नहीं हुआ यह समुंदर  मंथन से उत्पन्न हुई ! यह १४ रत्नो में से एक रतन था जिस को इंदर  ने मांग लिया था स्वर्ग के लिए  !यह स्वर्ग में देवताओ का मनोरंजन करती है ! इस का इस्तमाल देवता ऋषि मुनिओ की तपस्या भंग  करने के लिए  होता था  समुंदर  से निकलने ने के कारन यह माँ लक्ष्मी की बहन  है !

मेनका अप्सरा किसकी पुत्री थी

मेनका वृषणश्र (ऋग्वेद १-५१-१३) अथवा कश्यप और प्राधा (महाभारत आदिपर्व, ६८-६७) की पुत्री तथा ऊर्णयु नामक गंधर्व की पत्नी थी

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.