526x297 q3s 1 https://gurumantrasadhna.com/tilasmi-paryog/

Tilasmi paryog ख़्वाजा तिलस्मी प्रयोग से त्रिकाल ज्ञान ph. 8528057364

526x297 q3s 1 https://gurumantrasadhna.com/tilasmi-paryog/

Tilasmi paryog ख़्वाजा तिलस्मी प्रयोग से त्रिकाल ज्ञान ph. 8528057364 इस साधना से भूत भविष्य जान सकते है यह सुलेमानी प्रयोग है। 

हाजिरात का ख्वाजा मन्त्र  – “ख्वाजा खित्र जिन्द पीर मैदर मादर दस्तगीर मदत मेरा पीरान पीर करो घोड़े पर भीड़ चढ़ो हजरत पीर हाजर सो हाजर ।”

Tilasmi paryog ख़्वाजा तिलस्मी प्रयोग विधि

Tilasmi paryog ख़्वाजा तिलस्मी प्रयोग विधि- किसी भी शुक्रवार से मन्त्र को नित्य १०८ की संख्या में उल्टी आरम्भ करके २१ दिन तक इस माला पर जपें लौंग, इलायची और लोबान की धूप देने रहें। इस प्रकार मन्त्र सिद्ध हो जाता है। प्रयोग के समय सुबह बजे एक छोटे बच्चे को स्नानादि से पवित कर स्वच्छ वस्त्र पहना कर एक लकड़ी के पट्टे पर बैठायें तथा उसके दायें अंगूठे के नाखून पर काली स्याही (काजल) लगा दें और उसमें मुंह देखने को कहें तथा स्वयं आगे बैठकर उक्त मन्त्र को पढ़ते हुए धूप देते रहें। लड़के को सबसे पहले मैदान दिखाई देगा। जब वह यह कहे कि मुझे मैदान दिखाई दे रहा है, तब आप उससे कहें कि मैदान की जगह चौगान दिखाई देने लगे। फिर लड़का जब चौगान दीखने की बावत कहे, तब आप कहें कि दो जने आओ।’ जब दो जने आजायें तब कहें कि ‘दो और आ जाओ ।’

जब दो और आजायें, तब कहें कि दो और भी जायें। इस प्रकार चार दफा करें। जब आठ आदमी आ जायें, तब कहें कि झार वाले को बुलाकर झाड़ू लगवाओ। जब झाड़ू लग जाये तब कहें कि ‘भिश्ती को बुला कर छिड़काव कराओ।’ जब छिड़काव हो जाये तब कहें कि फर्म बिछवानो’ जब फर्श बिछ जायें, तब कहें कि ‘दो कुर्सी और तस्त मँगाओ ।’ तख्त तथा कुर्सी आ जाने पर कहें कि गद्दी बिछवाओ, गट्टी बिछ जाने पर कहें कि ‘पीर साहब को जाकर हमारी ओर से अर्ज करें कि आपका फलां खादिम आपको याद कर रहा है, इसलिए मेहरबानी करके मुशी साहब को साथ लेकर यहाँ तशरीफ लायें।’

जब मुंशी साहब तथा पीर साहब आ जायें तब मुंशी से कहें कि वह भोग को पीर साहब की न करें यह कहकर भोग, इलायची, इन इन सबको दें। फिर मुंशी से कहें कि पीरान पीर साहब से हमारी अर्ज करें कि आपका फलां खादिम फलां काम के बारे में पूछ रहा है।’ यह कहकर अपना काम बतायें तो लड़के द्वारा उसका जबाब मिलेगा। यदि लड़का उत्तर को समझ जाय तो ठीक कहे, न समझ सके तो मुशी से कहे कि मैं नहीं समझा. इसलिए मुझे फलां भाषा में चिखकर उ.म.शी. उसी भाषा में लिखकर दिखा देगा । हो, वह पूछ लेना चाहिए। इस विधि से जी कुछ पूछ सकते   है 

keyword 

ख्वाजा पीर का कलमा, ख्वाजा पीर की अरदास ,ख्वाजा पीर का जंजीरा मंत्र, ख्वाजा पीर की कहानी, ख्वाजा पीर वशीकरण मंत्र, ख्वाजा पीर की साधना, ख्वाजा पीर की दरगाह, ख्वाजा पीर कौन है, पीर बाबा को बुलाने का मंत्र, लखदाता पीर मंत्र, तिलस्मी मोती ,तिलस्मी का अर्थ, तिलस्मी ऐयारी का अर्थ, तिलस्मी मोती के फायदे ,तिलस्मी ऐयारी उपन्यास, तिलस्मी झरना ,तिलस्मी तेल ,तिलस्मी नकाब

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *