नाथ पंथ की महागणपति प्रत्यक्षीकरण साधना भगवान गणेश के दर्शन के लिए ph.85280 57364

क्यों बन रहें है आज-कल के पढ़े-लिखे लोग AGHORI बाबा | Why Are Indians Becoming Aghoris

3
343
82 / 100

नाथ पंथ की महागणपति प्रत्यक्षीकरण साधना दर्शन के

लिए ganesha sadhana 85280 57364

 

गुरु मंत्र साधना। कॉम में  आपका स्वागत है। मैं आपके लिए कर ऐसे में प्राचीन नाथ पंथ में चलने वाले उग्र गणपति ganesha sadhana साथ में लेकर आया हूं ।जो सर्व सिद्धि दायक है जो सभी साधनों में आपको सिद्धि दीलाती है ।इस साधना को करने से आपके जीवन के सभी कष्ट दूर होते हैं । लेकिन दूर होते हैं । यह आपको जिंदगी में बहुत सारी खुशियां प्रदान करती है ।और पग पग पर और हर रास्ते में सफल बनाती है चाहे नौकरी की हो कोई भी प्रॉब्लम हो उसमें सफलता बनाती है ।

जब आप इस साधना को करोगे तो आपको इस साधना की शक्ति के बारे में पता चल जाएगा । गणपति सिद्धि लाइफ में इतनी जरूरी है । जैसे मकान को बनाने के लिए सबसे पहले नीम की जरूरत होती है क्योंकि ना तो बड़ी से बड़ी बिल्डिंग खड़ी कर पाओगे । साधना करने से  से आपका तब और तपोबल कई गुना बढ़ जाएगा । इस साधना से आपको गणपति बाबा जी के विराट दर्शन होंगे ।

गणपति बाबा जी के सभी विद्यमान रूप इस साधना से मिल जाएंगे । ganesha sadhana

आपको मेरी मानो तो यह वीर साधना है इसमें गणपति जी का क्रोध स्वरूप का दर्शन होगा । आपको और वह आप से स्वयं बात करेंगे आपके सपने में आगे जब आप सोते हो सो रहे होंगे तो आपकी आत्मा को बाहर निकाल लेंगे और सभी आपके सवालों के जवाब देंगे लगेगा कि जैसे आपको रात को लेटे हुए । आपका शरीर भारी हो गया ही नहीं पा रहा है दबाव पड़ रहा है वगैरह वगैरह वो खुद बाबाजी खुद करते हैं । ना कि कोई गलत चीज आकर करेगी साधना में इस साधना से भाई सदाशिव सदा दुर्गा की एक साथ दर्शन होंगे । इस साधना को करने के बाद ना तो आपको कोई तांत्रिक कुछ बिगाड़ सकता है ना कोई अघोरी मौलवी मौलाना यहां तक कि काले वाला भी आपको कुछ नहीं बिगाड़ सकता ।

अगर वह ना माने आप पर बार-बार तंत्र करेगा तो मानो कि खुद अपनी जान से हाथ धो बैठेगा । ganesha sadhana

नाथ पंथ की महागणपति प्रत्यक्षीकरण साधना दर्शन के लिए ganesha sadhana
नाथ पंथ की महागणपति प्रत्यक्षीकरण साधना दर्शन के लिए ganesha sadhana

तुम तो उनके ऊपर ही डाल देंगे । इस साधना के लिए साधना में किस चीज की जरूरत पड़ती है।  आंकड़ों का पौधा चाहिए के लिए हवन करना होता है । अब मैं अपनी बात पर आता हूं जब मैंने बाबा गणपति जी के साथ में शुरू की थी तो अपने घर की छत पर ही करता था ।खुले में जब सर्दी इतनी पड़ती थी ।  हवन की जो चौकी लगाई जाती थी उसमें वेरी की लकड़ी के साथ हवन का तथा दो 2 घंटे लग जाते थे । लेकिन आनंद बहुत आता था मुझे इतना डर लग रहा था ।कि इतनी सर्दी में मेरे पसीने छूटने लगे पड़े थे ।कि मैं हवन बंद करूं और छत से नीचे चले जाओ जाकर विश्राम कर लूं ।

लेकिन मेरे मन में एक जवाब आया कि यह मेरा आखिरी पल है। ganesha sadhana

मेरे को अब यह ऐसा नहीं करना चाहिए ।यह डरना नहीं चाहिए । लेकिन मैंने गुरु का सम्मान किया और उसके बाद अपना हवन पूरा करने के बाद जो बाबाजी का पूजन करना था ।फिर छत से उतर के नीचे रूम में जाकर सो गया गणपति जी का एक बहुत पुराना मंदिर दिखता है मंदिर जैसे पहाड़ को काटकर वह मंदिर बनाया गया हो । उसमें पहले तो मुझे गणेश मूर्ति खुद दिखती है बहुत लंबी साक्षात विराट रूप में उनके कितने  मुख होते हैं। तुम्हें कितने सारे हो शस्त्र जो उनके थे वह थे साक्षात मेरे को आती दिखाई दे रहे ,उन की  सूंड में फूलों की माला थी ।और वह हाथी आज के हाथों से कहीं विशाल जैसे जैसे युद्ध में वह हाथी  नहीं चलते युद्ध में लड़ने के लिए बू आती थी ।हजार गुना काले रंग के और वहां पर सदाशिव के भूत प्रेत नीचे जो मेरे को देखकर मेरी तरफ उंगली करके हंस रहे थे । किसी की किसी की 31 इसका एक सिंग फिर उसमें क्या देखता हूं मैया दुर्गा मेरे पास आती है । हाथ पकड़ के ले जाती है कि तेरे को मैं ले कर चलु उनके पास जिनकी तूने साधना की है । और जो तू क्रिया कर चुका है हवन क्रिया की वह साधना तेरी सफल हो चुकी है ।

अब तेरा आशीर्वाद लेने का समय आ चुका है । ganesha sadhana

मैं तुमसे कोई सवाल जवाब नहीं करता वह मेरी बाजू पकड़ कर मेरे को एक साथ ले जाते वहां पर सबसे पहले मेरे को भगवान शंकर देखते हैं वह मेरे को प्रणाम करते हैं मैं उनको करता हूं मैया को बोलती है । गणपति बाबा मोरिया को जो सामने से भगवान शंकर पर भगवान शंकर के सामने चौकी पर बैठे हुए थे । मुझि भगवन गणपति जी ने आशीर्वाद दिया  अब तुम्हारी  साधना सफल हो चुकी है ।विराट रूप में जब अपनी आंखें खोलते हैं तो ।मेरे को बोलते हैं तुम्हारी साधना पूरी हुई है । अब तेरे को मैं यह वरदान देता कि तू आज के बाद मेरा भाई रहेगा ।ganesha sadhana

आज के बाद तो मेरा भाई है सीधी बात में तो आज के बाद मेरा भाई है ।उसके बाद तो जो भी साधना करेगा उस तेरी वीरता से सफल कर लेगा ।अपने अंदर ऊर्जावान कर लेगा और तू जो भी कार्य करेगा वह तरह तीव्रता से होगा जो कोई भी साधना करूंगा किसी भी धर्म की करूंगा चाय साबर मंत्र करता हूं चाहे तांत्रिक मंत्र का था चाहे पौराणिक मंत्र करता हूं । मेरे को बहुत शक्ति के साथ मिलेगा

उन्होंने के साथ में कि जब समय आएगा तब जन कल्याण के लिए

अगर कोई ना माने तो उसका भला भी कर अगर वह तीन बार तेरी बात न माने  ना माने । तो फिर उसका इतना बुरा कर देना कि दोबारा वैसा बीज पनपा ना पाए ।मैं भाइयों यही कहूंगा कि साधना को आप कीजिए मेरे साथ जुड़िए आप मेरी फैमिली हो जो भी आप को विधान बताऊगा  आपने कभी सुना नहीं किताबों में यूट्यूब गूगल पर नहीं दिखेगा मैं जो भी 100 पर्सेंट जहां पर बात कर रहा हूं ।अपनी निजी बात कर रहा हूं जो मैंने खुद  की है। यानी मैंने खुद कमाई अपने तपस्या के साथ बकवास नहीं करने आया हूं ।ना आपके जो देखने हैं उन आपके लायक हमारे से जुड़िए  जय महाकाल

ganesha sadhana

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.