bhoot bhavishya vartamaan
76 / 100

 

 

माँ  दुर्गा  त्रिकाल ज्ञान  (भूत, भविष्य और वर्तमान ) सध्ना 

(bhoot bhavishya vartamaan)   sadhna

माँ  दुर्गा  त्रिकाल ज्ञान  (भूत, भविष्य और वर्तमान ) सध्ना   

माँ  दुर्गा  त्रिकाल ज्ञान  (भूत, भविष्य और वर्तमान ) सध्ना  (bhoot bhavishya vartamaan)   sadhna माँ  दुर्गा  त्रिकाल ज्ञान  (भूत, भविष्य और वर्तमान ) सध्ना   

 

bhoot bhavishya vartamaan sadhna माँ  दुर्गा  त्रिकाल ज्ञान  साधना  ईस साधना  को  सिद्ध  करने  के  बाद  साधक  को    भूत  भविष्य   वर्तमान  (त्रिकाल  ज्ञान)  की  प्राप्ति  होती है  । आज  के समय में अच्छा  बुरे  व्यक्ति  का कोई  पता नही  चलता   किस पर विश्वास  करना maa durga Trikal gyan sadhna

 

चाहिए   यह हमे  पता नहीं   कभी    हम  व्यक्ति  पहिचाने में   गलत  कर जाते है  हमे  भारी नुकसान  उठाना पड़ता  है  अगर  आप  यह साधना  सिद्ध  कर लेते है  तो आप  को  चिंता  करने  की  बात नहीं  यह  साधना  से आप अच्छे   बुरे  का पता  कर सकते  है  देवी  मां  आप का  जिंदगी  भर  मार्गदर्शन  करती  है  ।  यह साधना  को सिद्ध  करने  से  साधक  मान सम्मान  सुख समृद्धि  की  प्राप्ति  होती  है ।maa durga Trikal gyan sadhna

maa durga Trikal gyan sadhna माँ दुर्गा त्रिकाल ज्ञान सध्ना

नवरात्रि में माँ दुर्गा की पूजा विधि :-

पूर्व दिशा में एक चौकी पर लाल कपड़ा बिछाकर माँ दुर्गा की मूर्ति या फोटो स्थापित करें | एक कटोरी में थोड़े चावल डालकर उसमें एक मिट्टी की डली पर लाल धागा लपेटकर गणेश जी की स्थापना करें | ईशान कोण(उत्तर व पूर्व दिशा के मध्य का भाग) में एक मिटटी के क्लश में पानी भरकर रख दे उस पर एक नारियल पर लाल कपडा लपेटकर, लाल धागे से बांधकर रख दे | अब माँ दुर्गा की फोटो के सामने नीचे जमीन पर एक घी का दीपक प्रज्वलित करें साथ में धुप आदि भी लगाये | maa durga Trikal gyan sadhna
अब आप सामने आसन बिछाकर बैठ जाये व दायें हाथ में थोडा जल लेकर सकल्प ले :- हे परमपिता परमेश्वर, मै(अपना नाम बोले) गोत्र(अपना गोत्र बोले) अपने कार्य की पूर्णता हेतू माँ दुर्गा की यह सध्ना कर रहा हूँ मेरे कार्य में मुझे सफलता प्रदान करें | ऐसा कहते हुए हाथ के जल को नीचे जमीन पर छोड़ दे | maa durga Trikal gyan sadhna
अब सर्वप्रथम गणेश जी को कुमकुम द्वारा तिलक करें अक्षत अर्पित करें, फिर माँ दुर्गा को तिलक करें और अक्षत अर्पित करें फिर पानी के कलश(वरुण देव) को तिलक करें और अक्षत अर्पित करें | इसी प्रकार से सभी देवों को आप पुष्प अर्पित करें और मिष्ठान आदि अर्पित करें | maa durga Trikal gyan sadhna
अब अपनी आँखे बंद करके माँ का ध्यान करते हुए कुछ समय के लिए इस मन्त्र के मन ही मन जप करें
       ईस    मंत्र  का    दुर्प्योग   ना   हो    ईस   लिए   मंत्र    को    गुपत      रखा      गया  है    


 

  •  Facebook 
  •  

     

     

     

  •  facebook group
  •  whatsaap group
 

अगर आप को साधना सम्बन्धी रूचि  रखते  है     आप  हमारी website पर    साधना  पर बने रहे WWW.Gurumantrasadhna.com नाग साधना , गंधर्व साधना , अप्सरा साधना , विद्याधर साधना , सिद्ध साधना, यक्ष साधना , यक्षिणी साधना , भैरव साधना , भैरवी  साधना आदि सकारात्मक शक्तियों की बात की गई है तो वहीं दैत्य साधना , दानव साधना, राक्षस साधना , पिशाच साधना ,  पिशाचिनी साधना , गुह्मक साधना, भूत साधना , बेताल  साधना  ,   योगिनी  साधना  वीर साधना  ,  पीर साधना,  कुंडलिनी  जागरण साधना, देवी देवताओ की साधना  ,  आदि सकारात्मक शक्तियों की  साधना के लिए  हमारी  website  के सदस्य  बने WWW.Gurumantrasadhna.com फोन नम्बर 085280 57364

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.