Panch Bawri पांच बावरी का इतिहास और प्राचीन साधना रहस्य ph 85280 57364
92 / 100

 

Panch Bawri पांच बावरी का इतिहास और प्राचीन

साधना रहस्य ph 85280 57364

 

Panch Bawri पांच बावरी का इतिहास और प्राचीन साधना रहस्य ph 85280 57364

 

पांच बावरी साधना paanch baavaree saadhana

पांच बावरी साधना paanch baavaree saadhana रहस्य पांच बावरी साधना तंत्र की प्रमुख्य साधनो मे से एक है पांच बावरी एक सिद्ध शक्ति है पांच बावरीको गोगा जाहर वीर 56 कलवे की शक्ति प्रपात है । और मनसा देवी 64 जोगणी की प्रपात है ! और पीर अस्तबली जी की शक्ति प्रपात है ! यह साधना करने के पश्चात् साधक को बहुत सारी सिद्धया प्राप्त हो जाती है ! और अधिक जानकारी के लिए जानकरी के लिए सम्पर्क करे – 85280 57364

Panch Bawri पांच बावरी का इतिहास और प्राचीन साधना रहस्य ph 85280 57364

पांच बावरियों Panch Bawri शूरवीर पांच बावरियों का इतिहास बताने जा रहा हूं ।काली से 64 जोगनी और गोगा जी चौहान से 56 कल्बे प्राप्त कर अपने सिद्ध कमान से और प्रजा के कष्टों का निवारण कर अमर हो गई ।और जिनकी मानता मुरथल धाम स्थित दमदम और गोगामेडी दरबारों में होती है ,और इन पांचो बावरियों का आशीर्वाद प्राप्त कर भक्तजन अपनी मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं ।पांचो बावरियों इतिहास सैकड़ों वर्ष पुराना है पांचो बावरियों जब खरखड़ी नामक स्थान राजस्थान में 979 वर्ग में विशाल प्रमिला फैला हुआ था ।मुक्त रूप में पूरा कबीला बहुत खुशहाल जीवन व्यतीत कर रहा था राजा का नाम था । हेमराज बाबरी जो एक न्याय प्रिय राजा थे, और वह दूसरों की मदद करने वाले व्यक्ति थे लेकिन इतना विशाल और खुशहाल राज्य होते हुए भी उनकी कोई संतान नहीं थी । राजा हेमराज बावरे बहुत दुखी और चिंतित रहते थे ।उसका मुख्य कारण था कि उनके कोई संतान नहीं थी ।हेमराज बावरी की धर्मपत्नी माता को बहुत बड़ी शिव भक्ति नगरी में आए साधु संतों और गरीब प्रजा की मदद करने में लिए रहती थी ।

Panch Bawri पांच बावरी का इतिहास और प्राचीन साधना रहस्य ph 85280 57364

पांच बावरी Panch Bawri के पिता का नाम

हेमराज बाबरी

पांच बावरी Panch Bawri के नाम

सबल सिंह बावरी

हरी सिंह बावरी

केसरमल बावरी

जीतमल बावरी

नथमल बावरी

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.