download 18 https://gurumantrasadhna.com/pipal-yakshini-sadhana/

पीपल यक्षिणी वशीकरण साधना pipal yakshini sadhana ph.85280 57364

पीपल यक्षिणी वशीकरण साधना pipal yakshini sadhana ph.85280 57364
पीपल यक्षिणी वशीकरण साधना pipal yakshini sadhana ph.85280 57364

पीपल यक्षिणी वशीकरण साधना pipal yakshini sadhana ph. 85280 57364    गुरु मंत्र  साधना   डॉट कॉम तथा शास्त्रों में कहीं गई ज्ञानवर्धक जानकारी के माध्यम से अपना जीवन सफल बनाने के इच्छुक हैं !या आप इन चीजों में रूचि रखते हैं तो आप हमारे वेबसाइट को allow  करो  !

 तथा इसके बाद बेल या घंटे की आइकन को दबाना ना भूले हमारे वेबसाइट में अपलोड की गई !कोई भी नई साधना  की जानकारी आप तक आसानी से सूचना या नोटिफिकेशन के माध्यम से आपके मोबाइल या कंप्यूटर पर पहुंच जाएगी ! हमारे चैनल को सब्सक्राइब करना बिल्कुल फ्री है तो हमारे चैनल को सब्सक्राइब करें!  

और अपने जीवन को सुखमय बनाए है जैसा कि आप सब जानते ही होंगे यह मान्यता है, कि पीपल पेड़ पर 33 कोटि देवी-देवताओं का निवास होता है! श्री डाकिनी शाकिनी भूत प्रेत इत्यादि आंखों में पीपल पेड़ के साथ जोड़ा जाता है!  इसलिए पीपल पेड़ से संबंधित जितने सारे तंत्र मंत्र टोने टोटके आपको मिलेंगे अन्य पेदो२ पर नही मिलेगे  ! दोस्तों आज  हम जानेंगे वशीकरण प्रयोग इस प्रयोग में वशीकरण हेतु शक्ति को आवाहन किया जाता है !

पीपल यक्षिणी वशीकरण साधना  विधि  pipal yakshini sadhana 

पीपल यक्षिणी वशीकरण साधना  विधि  pipal yakshini sadhana  ध्यान रहे कोई भी वशीकरण प्रयोग वाममार्गी या अघोरी वशीकरण प्रयोग को पूरी सावधानी से करनी चाहिए !सिर्फ आजमाने के लिए प्रयोग ना करें !साधना में कौन-कौन सी सामग्री की आवश्यकता पड़ेगी ! तो इसमें आपको चाहिए थोड़ा मांस का टुकड़ा चोमुखा दीपक चमेली का तेल दो सुपारी तथा चार लोंग यह  सामग्री को लेकर किसी पुराने पीपल वृक्ष के पास चले जाएं आपको किसी अमावस्या को रात्रि 10:00 से 2:00 के मध्य ही करनी  हैं करने के लिए ऐसे समय का चयन करें जब उस पेड़ के आसपास हमको यह प्रयोग करते हुए देखे न

पीपल  समक्ष पहुंचकर उस चौमुखी दीपक में चमेली का तेल डालकर रोईया सूती कपड़े के 32 से उसे जलाएं इस दीपक को चार दिशाओं की ओर करके पेड़ के नीचे जमीन पर रख दे !उस दिए को इस प्रकार रखें कि उसका एक मुख दक्षिण दिशा की ओर हो दूसरा मुक्त पश्चिम दिशा की ओर हो दो सुपारी तथा चार लोंग को दीपक के तेल में छोड़ दे इसके दक्षिण की ओर मुख करके खड़े हो जाए के बाद दिखाए गए मंत्र को ११०८ बार जप करें इसमें मंत्र का सटीक उच्चारण करना अत्यंत आवश्यक है इसलिए ध्यान पूर्वक सुनिए मंत्र है

पीपल यक्षिणी वशीकरण साधना  मंत्र  pipal yakshini sadhana mantra

 

ओम क्लीम क्लीम क्लीम श्रीम ओम ओम फट स्वाहा ओम क्लीम क्लीम क्लीम श्रीम ओम ओम फट स्वाहा

ध्यान रहे कि जब तक मंत्र जब चलता रहे दिया जलता रहे यानी जब भी उसमें तेल खत्म होने को आए तब फिर से चमेली का तेल उसमें डाल दे जप  खत्म होने के पश्चात उस दिए में से एक लॉन्ग अपने साथ वापस ले आए वापस आते समय पीछे मुड़कर ना देखें चाहे! किसी भी प्रकार का आवाज ही क्यों ना सुनाई दे यह अत्यंत आवश्यक चेतावनी है ! जो लोंग  आप लेकर आये वो किसी भी स्त्री या पुरुष को खिलाया जाएगा सदा के लिए आपका हो जाएगा ! यदि किसी व्यक्ति स्त्री या पुरुष फेंक कर भी मारा जाए तो वह बस में हो जाएगा लेकिन इस पर ध्यान रखने वाली बात यह है कि फेंकते समय अपने बाएं हाथ का ही इस्तेमाल करें!  इस मंत्र में  अमुक का पर्योग  नहीं किया गया है इसका मतलब है कि इस प्रयोग को करते समय किसी विशिष्ट व्यक्ति का नाम लेने की आवश्यकता नहीं है!  आप जिसे चाहे उसे वश में कर सकते हैं!

By Rodhar nath

My name is Rudra Nath, I am a Nath Yogi, I have done deep research on Tantra. I have learned this knowledge by living near saints and experienced people. None of my knowledge is bookish, I have learned it by experiencing myself. I have benefited from that knowledge in my life, I want this knowledge to reach the masses.

Leave a Reply