93 / 100

1  रंभा  अप्सरा rambha apsara द्वारा   की परीक्षा

तो कुछ दिन बाद ही उसको अप्सरा एक लोक में लेकर गई  जहाँपर बहुत अच्छे अच्छे बागीचे  थे ।जिस में बहुत सुन्दर सुन्दर फूल थे जिनसे लगतार खुशबू प्रवाहित हो रही थी  । बागीचे के आस पास बहुत उच्चे उच्चे झरने थे और पहाड़ भी हरी भरे थे ऐसा लग रहा था जिसे किसी अलग दुनिया में आ गया  हु ।आगे वो बहुत उच्चे parvat पर लेकर गई तो वह पर दो लोगो के बैठने की जगह थी अगर दो लोग उस जगह पर बैठते तो उनका शरीर एक दूसरे के साथ टच  होता आप लोग समझ सकते है । यह उसके बराहचर्य खंडित करने की चाल  थी ! रवि की चेतना शक्ति एक्टिव थी   वो सब चल समझ गया । तो वो उसके पास नहीं बैठा  वो बोलै मैं खड़ा ही ठीक हु। चेतना शक्ति एक्टिव होने के कारन वो इस पीरक्षा में सफल हो पाया  ।

रंभा अप्सरा साधना और अनुभव rambha apsara sadhna
रंभा अप्सरा साधना और अनुभव rambha apsara sadhna
रंभा अप्सरा साधना और अनुभव rambha apsara sadhna
रंभा अप्सरा साधना और अनुभव rambha apsara sadhna

 

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.